अवि के दोहे

0 100

अवि के दोहे


घड़ी

घड़ी घड़ी का फेर है,
    मन में राखो धीर।
राजा रंक बन जात है,
   बदल जात तकदीर।।

प्रेम

प्रेम न सौदा मानिये,
    आतम  सुने पुकार।
हरि मिलत हैं प्रीत भजे
मति समझो व्यापार।।

दान

देवन तो करतार है,
  मत कर रे अभिमान।
दान करत ही धन बढ़ी,
   व्यरथ पदारथ जान।।

व्यवहार

कटुता कभू न राखिये,
   मीठा राखो व्यवहार
इक दिन सबे जाना है,
    भवसागर के पार।।

अविनाश तिवारी


कविता बहार से जुड़ें



संस्थापक से जुड़ें



You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.