KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

बहार शब्द पर दोहा

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

बहार शब्द पर दोहा


रंग बिरंगे फूल से ,
            छाए बाग बहार ।
भौरें भी मदमस्त हो ,
           झूमे मगन अपार ।।

रखें भरोसा ईश पर ,
             जीवन हो उजियार ।
सदा प्रतिष्ठा मान से ,
             छाए हर्ष बहार ।।

घर में खुशी बहार है ,
               अपने भी हैं साथ ।
करे दिखावा प्रेम का ,
               पकड़ रखे हैं हाथ ।।

वन में आज बहार है ,
               तरुवर कर श्रृंगार ।
टेसू की ये लालिमा ,
               करे बाग मनुहार ।।

कर्म विजय का ध्येय धर ,
              छाए देश बहार ।
कहे रमा ये सर्वदा ,
              सफल बने संसार ।।

             मनोरमा चन्द्रा “रमा”
                 *रायपुर (छ.ग.)*

Leave A Reply

Your email address will not be published.