बापू दोहा मुक्तक

????????????????????
~~~~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा
. ? *दोहा मुक्तक* ?
. ? *बापू* ?
. ??
भारत ने थी ली पहन, गुलामियत जंजीर।
थी अंग्रेज़ी क्रूरता, मरे वतन के वीर।
हाल हुए बेहाल जब, कुचले जन आक्रोश।
देख दशा व्याकुल हुए, गाँधी वर मतिधीर।
. ??
काले पानी की सजा, फाँसी हाँसी खेल।
गोली गाली साथ ही , भर देते थे जेल।
देशी राजा अधिक तर, मौज करे मदमस्त।
गाँधी ने आवाज दी, कर खादी से मेल।
. ??
याद करे जब देश वह, जलियाँवाला बाग।
कायर डायर क्रूर ने, खेला खूनी फाग।
अंग्रेजों की दासता, जीना पशुता तुल्य।
छेड़ा मोहन दास ने, सत्याग्रह का राग।
. ??
मोहन, मोहन दास बन, मानो जन्मे देश।
पढ़लिख बने वकीलजी, गुजराती परिवेश।
भूले आप भविष्य निज, देख देश की पीर।
गाँधी के दिल मे लगी, गरल गुलामी ठेस।
. ??
देखे मोहन दास ने, साहस ऊधम वीर।
भगत सिंह से पूत भी, गुरू गोखले धीर।
शेखर बिस्मिल से मिले, बने विचार कठोर।
गाँधी संकल्पित हुए, मिटे गुलामी पीर।
. ??
बापू के आदर्श थे, लाल बाल अरु पाल।
आजादी हित अग्रणी, भारत माँ के लाल।
फाँसी जिनको भी मिली, काले पानी मौत।
गाँधी सबको याद कर, करते मनो मलाल।
. ??
अफ्रीका मे वे बने, आजादी के दूत।
लौटे अपने देश फिर, मात भारती पूत।
किया स्वदेशी जागरण, परदेशी दुत्कार।
गाँधी ने चरखा चला, काते तकली सूत।
. ??
अंग्रेजों की क्रूरता, पीड़ित लख निज देश।
बैरिस्टर हित देश के, पहने खादी वेश।
सामाजिक सद्भाव के, दिए सत्य पैगाम।
ईश्वर सम अल्लाह है, सम रहमान गणेश।
. ??
कूद पड़े मैदान में, चाह स्वराज स्वदेश।
कटे दासता बेड़ियाँ, हो स्वतंत्र परिवेश।
भारत छोड़ो नाद को, करते रहे बुलंद।
गाँधी गाँधी कह रहा, खादी बन संदेश।
. ??
सत्य अहिंसा शस्त्र से, करते नित्य विरोध।
जनता को ले साथ में,किए विविध अवरोध।
नाकों में दम कर उन्हे, करते नित मजबूर।
गाँधी बिन हथियार के, लड़े करे कब क्रोध।
. ??
सत्याग्रह के साथ ही, असहयोग हथियार।
सविनय वे करते सदा, नाकों दम सरकार।
व्रत उपवासी आमरण, सत्य अहिंसा ठान।
गाँधी नित सरकार पर, करते नूतन वार।
. ??
गोल मेज मे भारती, रखे पक्ष निज देश।
भारत का वो लाडला, गाँधी साधू वेश।
हुआ चकित इंग्लैण्ड भी, बापू कर्म प्रधान।
गाँधी भारत के लिए, सहते भारी क्लेश।
. ??
गोरे काले भेद का, करते सदा विरोध।
खादी चरखे कात कर, किए स्वदेशी शोध।
रोजगार सब को मिले, बढ़े वतन उद्योग।
गाँधी थे अंग्रेज हित, कदम कदम अवरोध।
. ??
मान महात्मा का दिया, आजादी अरमान।
बापू अपने देश का, लौटाएँ सम्मान।
देश भक्त करते सदा, बापू का जयकार।
गाँधी की आवाज पर, धरते सब जन कान।
. ??
गाँधी की आँधी चली, हुए फिरंगी ध्वस्त।
दी आजादी देश को, पन्द्रह माह अगस्त।
खुशी मन सब देश में, भाया नव त्यौहार।
गाँधी ने हथियार बिन, किये विदेशी पस्त।
. ??
बँटवारे के खेल में, भारत पाकिस्तान।
बापू जी के हाथ था, खंडित हिन्दुस्तान।
हुए पलायन लड़ पड़े, हिन्दू मुस्लिम भ्रात।
गाँधी ने कर शांत तब, दाव लगाई ज़ान।
. ??
आजादी खुशियाँ मनी, बापू का सम्मान।
राष्ट्रपिता जनता कहे, बापू हुए महान।
खुशियाँ देखी देश में, बदला सब परिवेश।
गाँधी भारत देश में, जन्मे बन वरदान।
. ??
तीस जनवरी को हुआ, उनका तन निर्वाण।
सभा प्रार्थना में तजे, गाँधी जी ने प्राण।
शोक समाया देश में, झुके करोड़ों शीश।
गाँधी तुम बिन देश के, कौन करेगा त्राण।
. ??
दिवस शहीदी मानकर,रखते हम सब मौन।
बापू तेरे देश का , अब रखवाला कौन।
कीमत जानेंगे नही, आजादी का भाव।
गाँधी तुम बिन हो गये, सूने भारत भौन।
. ??
महा पुरुष माने सभी, देश विदेशी गान।
मानव मन होगा सदा, बापू का अरमान।
याद रखें नव पीढ़ियाँ, मान तेज तप पुंज।
गाँधी सा जन्मे पुन: , भारत भाग्य महान।
. ??
बापू को करते नमन,अब तो सकल ज़हान।
धन्य भाग्य माँ भारती, गाँधी धीर महान।
राजघाट में सो रहे, हुए देव सम तुल्य।
गाँधी भारत देश की, है तुमसे पहचान।
. ??
शर्मा बाबू लाल ने, लिख दोहे बाईस।
बापू को अर्पित किये, नित्य नवाऊँ शीश।
रघुपति राघव गान से, गुंजित सब परिवेश।
गाँधी जी सूने लगें, अब वे तीनों कीस।
. ??
✍✍©
बाबू लाल शर्मा,”बौहरा”
सिकंदरा,दौसा,राजस्थान
??????????

(Visited 6 times, 1 visits today)

प्रातिक्रिया दे