KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook

@ Twitter @ Youtube

बीर/आल्ह छंद [सम मात्रिक] कैसे लिखें

0 32

बीर/आल्ह छंद [सम मात्रिक] विधान – 31 मात्रा, 16,15 पर यति, चरणान्त में वाचिक भार 21 या गाल l कुल चार चरण, क्रमागत दो-दो चरणों पर तुकांत l

hindi sahityik class || हिंदी साहित्यिक कक्षा
hindi sahityik class || हिंदी साहित्यिक कक्षा

उदाहरण :
विनयशीलता बहुत दिखाते, लेकिन मन में भरा घमण्ड,
तनिक चोट जो लगे अहम् को, पल में हो जाते उद्दण्ड।
गुरुवर कहकर टाँग खींचते , देखे कितने ही वाचाल,
इसीलिये अब नया मंत्र यह, नेकी कर सीवर में डाल।

– ओम नीरव

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.