KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

भेदभाव को छोड़कर धर अपनों का हाथ

मनोरमा चन्द्रा रायपुर: रमा के रमणीय बोल —-
07/09/2020
दोहा — छंद

0 222
भेदभाव को छोड़कर
विद्यार्थी पर कविता

भेदभाव को छोड़कर धर अपनों का हाथ

भेदभाव को छोड़कर ,
धर अपनों का हाथ ।
नित्य मधुर संबंध से ,
नात जुड़े हैं साथ ।।

प्रभु का सुमिरन नित करें ,
छूटे हैं भव जाल ।
ईष्ट जोड़ संबंध मनु ,
चमक उठे हैं भाल ।।

सदा बड़ों का मान रख ,
निभा चलें हम नात ।
दिव्य बँधें संबंध तो ,
मिले प्रेम सौगात ।।

टूटे हैं संबंध तो ,
विगलित है मन आज ।
जब मन में अति दुख भरे ,
होते सफल न काज ।।

मर्यादित संबंध बँध ,
रिश्ते कर पहचान ।
कहे रमा ये सर्वदा ,
मिले जगत सम्मान ।।

*~ मनोरमा चन्द्रा “रमा”*
*रायपुर (छ.ग.)*

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.