KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

भजन- ओ मोरे घनश्याम साँवरे

0 125

ओ मोरे घनश्याम साँवरे

कृष्ण
Shri krishna

ओ मोरे घनश्याम साँवरे
ओ मोरे घनश्याम साँवरे
बिन दर्शन हम हो गए बावरे
बिन दर्शन हम हो गए बावरे
मोरे घनश्याम ओ मोरे श्याम
ओ मेरे….
दूखन लागे हमरे नैना
तुम बिन कान्हा अब नहीं चैना
दिन गुज़रे न कटती रैना
सुबह से हो गई अब तो शाम रे
ओ मोरे…..
गलियन गलियन ढूँढत आई
ओ मोरे मोहन रट है लगाई
बेचैनी तुमने है बढ़ाई
मुश्किल में हैं हमरे प्राण रे
ओ मोरे….
जब से तोरी प्रीत जगी है
‘चाहत’ वाली अगन लगी है
तन मन को बस लगन लगी है
जिव्या पे बस तुम्हरा नाम रे
ओ मोरे………


नेहा चाचरा बहल ‘चाहत’
झाँसी

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.