KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

बिखराव पर कविता

1 275

बिखराव पर कविता

नफरतों ने
बढ़ा दी दूरियां
इंसान-इंसान के बीच

बांट दिया इंसान
कितने टुकड़ों में
स्त्री-पुरुष
अगड़ा-पिझड़ा
अमीर-गरीब
नौकर-मालिक
छूत-अछूत
श्वेत-अश्वेत
स्वर्ण-अवर्ण
धर्म-मजहब में
खंड-खंड हो गया इंसान
नित बढ़ता ही
जा रहा है बिखराव

-विनोद सिल्ला©

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.

1 Comment
  1. Meena Rani says

    सत्य कहा आपने