Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

बिल्ली पर बाल कविता

0 116

बिल्ली पर बाल कविता

CLICK & SUPPORT

बाल कविता
बाल कविता



मेरी बिल्ली, काली-पीली।
पानी से वह हो गई गीली ॥
गीली होकर लगी कॉपने।
आँछी-आँछी लगी छींकते ॥
मैं फिर बोली कुछ तो सीख
बिन रूमाल के कभी न छींक।

Leave A Reply

Your email address will not be published.