KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

बोझ पर कविता

0 185

बोझ पर कविता

कभी कभी
कलम भी बोझ लगने लगती है
जब शब्द नहीं देते साथ
अंतरभावों का
उमड़ती पीड़ायें दफन हो जाती
भीतर कहीं
उबलता है कुछ
धधकता है
ज्वालामुखी सी
विचारों के बवंडर
भूकंप सा कंपाते है
मन मस्तिष्क को
और सारे तत्वों के बावजूद
मन अकेला हो जाता है
उस माँ की तरह
जो नौ महीने सहर्ष
भार ढोती ।
उस पिता की तरह
जो कंधे और झुकती कमर तक
जिम्मेदारी उठाता
पर
वक्त के दौर में उपेक्षित हो
अपनी ही संतति को बोझ लगते  हैं ।
तब शब्द कफन ओढ़ लेते है
और टूट जाती है नोक कलम की
संवेदनाओं के सूखते
स्याही
कलम को बोझिल कर देते हैं ।


सुधा शर्मा राजिम छत्तीसगढ़

Leave a comment