Browsing Category

दोहा

फरवरी

.🌼🌻🌼🌻🌼🌻🌼🌻🌼🌻 ~~~~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा . दोहा छंद . 🌼🌹 *फरवरी* 🌹🌼 माह फरवरी शीत में, पछुआ मंद बयार। बासंती मौसम हुआ, करे मधुप गुंजार।। माह फरवरी जन्म का, वेलेन्टाइन संत। प्रेम पगा संसार हो, प्रीत…

चाँद

चाँद बिखरता चाँदनी, करता जग अंजोर। चंद्र कांति से नित लगे, अभी हुआ है भोर।। दुनिया भर से तम मिटा, चारों दिशा प्रकाश। नील गगन पर दिव्यता, आलोकित आकाश।। नवग्रह देव मयंक हैं,…

साधना

करूँ इष्ट की साधना, कृपा करें जगदीश। पग पग पर उन्नति मिले, तुझे झुकाऊँ शीश।। योगी करते साधना, ध्यान मगन से लिप्त। बनते ज्ञानी योग से, दूर सभी अभिशिप्त ।। जो मन को हैं साधते,…

महँगाई

दिनाँक-01/02/2020 विषय-महँगाई विधा-दोहा 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 महँगाई की मार से , हर जन है बेहाल। निर्धनभूखा सो रहा,मिले न रोटी दाल।।1।। 🌹🌹🌹🌹 महँगाई डसती सदा,निर्धन को दिनरात। पैसा जिसके पास है,होती उसकी बात।।2।।…

ऋतुराज

विषय-बसंत विधा-दोहा 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 धरती दुल्हन सी सजी,आया है ऋतुराज। पीली सरसों खेत में,हो बसंत आगाज।।1।। 🌹🌹🌹🌹 कोकिल मीठा गा रही,भांतिभांति के राग। फूट रही नव कोंपलें , हरे भरे हैं बाग।।2।।…

विरह बसंत

🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞 ~~~~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा . 🌏 *दोहा छंद* 🌎 . *विरहा सोच बसंत* सूरज उत्तर पथ चले,शीत कोप हो अंत। पात पके पीले पड़े, आया मान बसंत।। . 👀👀 फसल सुनहरी हो रही, उपजे कीट…

बापू दोहा मुक्तक

🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳 ~~~~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा . 💥 *दोहा मुक्तक* 💥 . 🌞 *बापू* 🌞 . 🌹🌹 भारत ने थी ली पहन, गुलामियत जंजीर। थी अंग्रेज़ी क्रूरता, मरे वतन के वीर। हाल हुए बेहाल जब,…

शब्द संपदा ५

👀👀👀👀👀👀👀👀👀👀 ~~~~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा . 🌼 *शब्द संपदा* 🌼 . °°°°°°°°° १ सागर मंथन जब हुआ, चौदह निकले रत्न। *अन्वेषण* नित कर रहे, सतत समस्त प्रयत्न।। २ *सम्प्रेषण* होता रहे, भव भाषा भू…

सैनिक रक्षक वीर

🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞 ~~~~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा . 🌼 *दोहा छंद* 🌼 . 🌹 *रक्षक* 🌹 *सैनिक व सिपाही को अर्पित दोहा पच्चीसी* . 💥💥💥 १ बलिदानी पोशाक है, सैन्य पुलिस परिधान। खाकी वर्दी मातृ भू, नमन शहादत…

शब्द संपदा -४

👀👀👀👀👀👀👀👀👀👀 ~~~~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा . 🌼 *शब्द सम्पदा* 🌼 . °°°°°°°°° *आँका, बाँका, झाँका,ताका* आँका जब रघुवीर धनु , बाँका शम्भु पिनाक। झाँका राज समाज सब,विकल रही सिय ताक।। आँका जटिल…