Browsing Category

हाइकु

रसभरी

1. मीठी गोलियां~ पेट को लाभ देती रसभरियां। 2. बेवफा नहीं~ रसभरी होठों से चूमे चिठ्ठियां। 3. मीठी व प्यारी~ रूह को मिठास दे ये रसभरी।

सेदोका

कहाँ सन्यासी? किस वन में स्थित उनकी तपोभूमि? बाना कौशेय जग ने धरा जब, अदृश्य हैं तब से। 🖊मनीभाई नवरत्न छत्तीसगढ़

सेदोका की सुगन्ध-पद्ममुख पंडा स्वार्थी (sedoka ki sungandh)

सेदोका की सुगन्ध प्रचण्ड गर्मीसहता गिरिराजपहन हिमताजरक्षक वहहै हमारे देश काहमको तो है नाज़वृक्षारोपणएक अभिवादनजो बना देता  वनपर्यावरण सुरक्षित रखनेखुश हो जाता मननाप सकतेमन की गहराईकाश संभव होतासमुद्र में भीहो फसल उगाईग़रीबी की…

निर्मल नीर के हाइकु(Nirmal Nir ke Haiku)

हाइकु ******************नूतन वर्ष~चारों तरफ़ छायाहर्ष ही हर्षकाम न दूजा~सबसे पहले होगायों की पूजाहै अन्नकूट~कोई न रहे भूखाजाये न छूटभाई की दूज~पवित्र है ये रिश्ताइसको पूजदिवाली आई~घर-घर में देखोखुशियाँ छाई******************   💦निर्मल…

सच कहना-पद्ममुख पंडा स्वार्थी(sach kahna)

तांका की महक*** सच कहनाअपराध नहीं हैफिर भी लोगकहते डरते हैंयूं रोज मरते हैंसच कहनाबहुत जरूरी हैदेश हित मेंअपना स्वार्थ त्यागत्याग विद्वेष रागसच कहनासबका कर्त्तव्य हैसंसार टिकासच्चाई के कारणदुखों का निवारणसच कहनालाभदायक होता समाज…

हाइकु मंजूषा-पद्ममुख पंडा स्वार्थी (Padmmukh panda swaarthi)

हाइकू मंजूषा ***चल रही हैचुनावी हलचलप्रजा से छलभरोसा टूटाकिसे करें भरोसासबने लूटाशासन तंत्रबदलेगी जनताहक बनताधन लोलूपनेता हो गए सबअब विद्रूपमंडरा रहाभविष्य का खतराचुनौती भराखल चरित्रजीवन रंगमंचन रहे मित्रप्यासी वसुधाजो शान्त करती…

हाइकु (संयुक्त राष्ट्र दिवस )- मनीभाई नवरत्न( haiku for union nation)

संयुक्त राष्ट्र दिवस १मानवाधिकारजब जग ने जानाराष्ट्र संयुक्त। २वैश्विक तापसंकट में है राष्ट्रसुधरो आप। ३विश्व की शांतिधरा हो सुरक्षितआतंक मिटा। ४अस्त्र की होड़विकास या विनाशअंधी ये दौड़। ५भारत आयारंग भेद खिलाफसंसार जागा। ६चुनौती…

हूँ करवा मैं-चोंका (hu karwa main)-भावुक

  हूँ करवा मैं************मेरे चाँद मेंबहत्तर हैं छेदहूँ करवा मैंपति की बढ़े उम्रहों दीर्घजीवीजब भी वो चेतेंगेदेख के त्यागबनेंगे पत्नीव्रताखुलेगा भाग्यमेरा मेरे बच्चों काहोगा उद्धारसंवरेगा संसारमिलेगा प्यारकरवा चौथ व्रतहोगा सफलचांद मेरा…

सेदोका की सुगन्ध-पद्म मुख पंडा स्वार्थी(sedoka ki sugandh)

सत्यवादी जोपरेशान रहताअग्नि परीक्षा देतापूरी दुनियाउसे हंसी उड़ातीवो चूं नहीं करताअंधा आदमीमन्दिर चला जाताखुद को समझाताउसे देखनेजो दिखता ही नहींआंखों के होते हुएउसके घरदेर भी है सर्वदाअंधेर भी है सदान्याय से परेमिलता परिणामखास हो या कि आमजो…

सेदोका की सुगन्ध-पद्म मुख पंडा स्वार्थी

सेदोका की सुगन्ध-पद्म मुख पंडा स्वार्थीसत्यवादी जोपरेशान रहताअग्नि परीक्षा देतापूरी दुनियाउसे हंसी उड़ातीवो चूं नहीं करताअंधा आदमीमन्दिर चला जाताखुद को समझाताउसे देखनेजो दिखता ही नहींआंखों के होते हुएउसके घरदेर भी है सर्वदाअंधेर भी है…