KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Category

साहित्यिक विधा

विविध प्रकार की रचनाओं को वर्ग या श्रेणी में बांटने से उस विधा के गुणधर्मो को समझने में सुविधा होती है। साहित्य एवं भाषण में विधा शब्द का प्रयोग एक वर्गकारक (CATEGORIZER) के रूप में किया जाता है। किन्तु सामान्य रूप से यह किसी भी कला के लिये प्रयुक्त किया जा सकता है। विधाओं की उपविधाएँ भी होती हैं। उदाहरण के लिये हम कहते हैं कि निबन्ध, गद्य की एक विधा है।

Dividing various types of compositions into class or category helps in understanding the properties of that genre. In literature and speech, the term genre is used as a CATEGORIZER. But in general it can be used for any art form. There are also derivatives of genres. For example, we say that the essay is a genre of prose.

सोरठा छंद विधान-बाबू लाल शर्मा,बौहरा(sortha chhand vidhan)

सोरठा छंद विधान सोरठा चौबीस मात्रिक छंद है। चार चरण होते हैं।दोहे से उलट - विषम चरण ११ मात्रिक और सम चरण १३ मात्रिक होते हैं।विषम चरण समतुकांत हो,चरणांत २१…

मदिरा सवैया विधान (Madira savaiyya vidhan)-बाबू लाल शर्मा, “बौहरा”

मदिरा सवैया विधान( वर्णिक छंद )*विधान* :--चार चरण२२ वर्ण प्रति चरण१०-१२ वर्ण पर यति,चरणान्त गुरु, (२११×७) +२(भगण×७) +गुरुचारो चरण समतुकांत !       *路‍♀  माँ*…

मनहरण घनाक्षरी छंद विधान को समझिये

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar *मनहरण घनाक्षरी छंद विधान*८,  ८,८, ७ वर्णआठ,आठ,आठ,सात ।    वर्णसंयुक्त वर्ण एक ही माना जाता है।कुल ३१वर्ण,…

मुक्तक काव्य कैसे लिखें (How to write MUKTAK POEM)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar? *मुक्तक विधान* ?मुक्तक में सामान्यतःचार पंक्तियाँ होती है।चारों पंक्तियों में मात्रा भार समान होता…

ताँका कैसे लिखें (How to write TAANKA)

ताँका जापानी काव्य की कई सौ साल पुरानी काव्य विधा है। इस विधा को नौवीं शताब्दी से बारहवीं शताब्दी के दौरान काफी प्रसिद्धि मिली। उस समय इसके विषय धार्मिक या…

छंदों की प्रारंभिक जानकारी(Preliminary knowledge of verses in hindi)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabaharछन्द क्या है?यति, गति, वर्ण या मात्रा आदि की गणना के विचार से की गई रचना छन्द अथवा पद्य कहलाती है।चरण या पद…
टूलबार पर जाएं