Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

चैत्र मास संवत्सर / परमानंददास

0 107
kavita-bahar logo
kavita-bahar

CLICK & SUPPORT

चैत्र मास संवत्सर परिवा बरस प्रवेस भयो है आज।
कुंज महल बैठे पिय प्यारी लालन पहरे नौतन साज॥१॥
आपुही कुसुम हार गुहि लीने क्रीडा करत लाल मन भावत।
बीरी देत दास परमानंद हरखि निरखि जस गावत॥२॥

Leave A Reply

Your email address will not be published.