KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

यदि आपकी किसी एक ही विषय पर 5 या उससे अधिक कवितायेँ हैं तो आप हमें एक साथ उन सारे कविताओं को एक ईमेल करके kavitabahaar@gmail.com या kavitabahar@gmail.com में भेज सकते हैं , इस हेतु आप अपनी विषय सम्बन्धी फोटो या स्वयं का फोटो और साहित्यिक परिचय भी भेज दें . प्रकाशन की सूचना हम आपको ईमेल के माध्यम से कर देंगे.

चलो चले खेल खेलें

खेल खेलना हमारे जीवन में अत्यंत महत्वपूर्ण है । खेल खेलने से हमारा स्वस्थ भी ठीक रहता है और शरीर में भी फूर्ती रहती है ।

0 684

चलो चले खेल खेलें

दुनिया को रंग दे खेल के रंगों से ;
चलो चलें खेल खेले , चलो चलें खेल खेले ।
मिलकर हम सब खेल खेले ।

छोटे से मैदान से अपने आप को निकालकर ,
ओलपिंक मे अपना नाम बना ले,
वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम करने की तैयारी कर ले,
चलो चलें खेल खेले ।।

अपनी इस छोटी सी पहचान को ,
दुनिया के सामने रखकर,
तैयारी जीत की कर ले,
चलो चलें खेल खेले ।।

कबड्डी के मैदान में अंतिम खिलाड़ी ,
बचने पर भी अपनी टीम को जीता दे;
ऐसी तैयारी कर ले ,
चलो चलें खेल खेले ।।

सबकी आशाओ से ज्यादा ,
दुनिया वालों को अपने ;
देश का राष्ट्रगान सुना दे ,
ऐसा निर्णय कर ले ,
चलो चलें खेल खेले ।।

क्रिकेट, फुटबाॅल, हाॅकी,टेनिस ,
आदि खेलो का मार्गदर्शन कर ले ;
मेजर ध्यान चंद्र खेल रत्न पुरस्कार पा ले,
चलो चलें खेल खेले ॥
चलो चलें खेल खेले ॥

रबिना विश्वकर्मा ( उ•प्र•;;जिला जौनपुर ;हथेरा )
पिन:: 222128

Leave A Reply

Your email address will not be published.