KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस पर रचित दूजराम साहू जी की कविता चलो नवा सुरुज परघाना हे, जरूर पढ़ें

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

चलो नवा सुरुज परघाना हे
छत्तीसगढ़ राज्य पायेहन
चलो नवा सुरुज परघाना हे !
भारत माता के टिकली सहिक….
छत्तीसगढ़ ल चमकाना हे !!
जेन सपना ले के राज बने हे
साकार हमला करना हे!
दिन -दुगनी ,रात -चौगुनी
आगे -आगे बढ़ना हे !
सरग असन ये भुईया ल….
चक- चक ले चमकाना हे!!
मिसरी असन भाखा हे
मीठ -बोली- जबान हे ,
दया-मया अंचरा में बांधे,
छत्तीसगढ़ीया के पहिचान हे !
दूध बरोबर उज्जर मन हे….
नई जाने कपट – बहाना हे !!
जांगर टोर कमा -कमा के
धरती ले सोना ऊपजाथे न
एको सुख ल नई जाने ,
परबर महल बनाथे न !
परे -डरे बिछड़े मनखे ल….
उखर अधिकार दिलाना हे !!
सबो बर रोजगार रहे
न करजा कोनो ऊधार रहे ,
सुन्ना कोनो न चुलहा रहे
लांघन न कोई परिवार रहे!
भारत माता के ये बेटी ल……
दुल्हीन सहीक सम्हराना हे!!
दूजराम साहू
निवास- भरदाकला
तहसील -खैरागढ़
जिला -राजनांदगांव (छ. ग.)