KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook

@ Twitter @ Youtube

चंदा मामा पर कविता

0 66

चंदा मामा पर कविता

चंदा मामा पर कविता
चंदा मामा पर कविता

चंदा मामा दूर के
चंदा मामा दूर के

पुए पकाये बूर के |
आप खाएँ थाली में।
मुन्नी को दें प्याली में ॥
प्याली गयी टूट
मुन्नी गयी रूठ॥
चंदा के घर जाएँगे।
लाएँगे नई प्यालियाँ ॥
मुन्नी को मनाएँगे।
बजा बजा कर तालियाँ ॥

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.