Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

शिक्षक दिवस पर कविता

262

शिक्षक दिवस पर कविता

शिक्षक से है ज्ञान प्रकाश ।
शिक्षक  से बंधती है आस।
शिक्षक में करुणा का वास।
जिनके कृपा से चमके अपना ताज।
चलो मनाएं , शिक्षक दिवस आज।

शिक्षक दिलाते हैं पहचान ।
शिक्षक से ही बनते  महान ।
शिक्षक होते गुणों की खान।
निभायेंगे हम ये सम्मान का रिवाज।
चलो मनाएं , शिक्षक दिवस आज।

CLICK & SUPPORT

जग में सुंदर,  गुरू से नाता।
बिन गुरु ज्ञान कौन है पाता?
गुरु ही होते हैं  सच्चे विधाता ।
शीश नवाके आशीष पाऊंगा आज ।
चलो मनाएं , शिक्षक दिवस आज।

शिक्षक होते हैं रचनाकार ।
ज्ञान से करते हैं चमत्कार ।
बंजर में भी ला देते हैं बहार।
वो जो चाहे वैसे बन जायेगी समाज।
चलो मनाएं , शिक्षक दिवस आज।

 मनीभाई ‘नवरत्न’, छत्तीसगढ़

कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.