KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कोरोना और ज़िंदगी-चंदेल साहिब

रचना शीर्षक – कोरोना v.s ज़िंदगी

0 38

कोरोना और ज़िंदगी-चंदेल साहिब

कोरोना से ऐ इंसान तू अब मत घबरा,
श्रद्धा व सबूरी का एक दीप तो जला।

मौत तो निश्चित है चंदेल आनी एक दिन,
हर पल ख़ौफ से अब ख़ुद को न सता।

रब की बनाई सृष्टि से न कर भेदभाव,
सावधानी से ख़ुद व समाज का कर बचाव।

बहुत शक्तिशाली है ह्यूमन इम्यून सिस्टम,
स्वयं भी जाग एवं दुनिया को भी जगा।

कोरोना से ऐ इंसान तू अब मत घबरा,
श्रद्धा व विश्वास का एक दीप तो जला।

Leave A Reply

Your email address will not be published.