KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

साइकिलों पर घर

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

साइकिलों पर घर

अलग-अलग पगडंडियों से
गाँवों के मजदूर
अपनी जरूरतें
मुँह पर चस्पा किए

साइकिलों से खटते हुए
पहूँचते हैं शहर में ,
शहर में है –
उनके खून – पसीने को

पैसों में बदलने की मशीन ।
साइकिलों में टँगे होते हैं –
बासी, मिर्च और प्याज के साथ
परिवार की ताकत का स्वाद,

काम करता है मजदूर
अपने इसी मिर्च की भरभराहट खत्म होने तक ,

इनकी छुट्टियों को जरूरतों ने
हमेशा से खारिज कर रखा है,

वापसी साइकिलों में टँगे होते हैं –
घर की जरूरतें और उम्मीद
शहर उम्मीदों और
जरूरतों का विज्ञापनखोर है ।

इसी तरह टँगा होता है
साइकिलों पर घर
जहाँ डेरा डाला गाँव बना लिया

इन्हीं से बची है –
खूबसूरती संवारने की ताकत
एक स्वच्छ और सुंदर शहर
साइकिलों पर टिका हुआ है।


——— ———
रमेश कुमार सोनी
कबीर नगर- रायपुर छत्तीसगढ़
संपर्क- 7049355476