Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

दंगों से पहले पर कविता

0 248

दंगों से पहले पर कविता

दंगों से पहले

शांत महौल था
इस शहर का
दंगों से पहले

नाम निशान
नहीँ था वैर का
दंगों से पहले

अंकुरित नहीँ था
बीज जहर का
दंगों से पहले

CLICK & SUPPORT

सौहार्द-सदभाव का
हर पहर था
दंगों से पहले

न साम्प्रदायिकता
का कहर था
दंगों से पहले

सियासतदानों से
दूर शहर था
दंगों से पहले

असलम रामलाल से
कहाँ गैर था
दंगों से पहले

चुनाव ने ही
घोला जहर था
दंगों से पहले

-विनोद सिल्ला©

No Comments
  1. राजेश पाण्डेय ‛अब्र’ says

    संकेत जितना भो दीजिये नासमझी का पर्दा हटना मुश्किल होता है
    अच्छी रचना हेतु साधुवाद

    ✒️अब्र

Leave A Reply

Your email address will not be published.