hindi sahityik class || हिंदी साहित्यिक कक्षा

देव घनाक्षरी विधान -बाबूलाल शर्मा ‘विज्ञ’

देव घनाक्षरी विधान -बाबूलाल शर्मा ‘विज्ञ’

देव घनाक्षरी विधान

  • ३३वर्ण (८८८९) प्रतिचरण
  • चार चरण समतुकांत
  • चरणांत नगण१११(पुनरावृत्ति)
  • (जैसे कदम कदम)

देव घनाक्षरी विधान का उदाहरण

__कदम-कदम__

लड़ें सीमा पर हम,
पातकी जाएगा थम,
कारवाँ चले बढ़ेगा,
चलना कदम-कदम।

पाक पड़ौसी बे दम,
सुधारो उसको तुम,
करना नहीं रहम,
वह तो छदम छदम।

चीन भाई धोखे सम,
फैलता है काला तम,
भारती माता पावन,
झूठ वो सनम सनम।

शत्रु हो कोई आधम,
नष्ट होगा हर बम,
सबक देना ही होगा
तोड़ना वहम वहम।
. —-+—-
©~~~~~~~~बाबूलालशर्मा *विज्ञ*

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page