माधुरी मंजरी-धनतेरस

       ★■◆● धनतेरस ●◆■★

शल्य शास्त्र के जनक हैं,
   धन्वंतरि भगवान ।
       वेद शास्त्र महिमा सदा ,
           नेति नेति कर गान ।। 1।।
महा वैद्य इस विश्व के ,
   सर्व गुणों की खान ।
       इनके सुमरन मात्र से ,
            मिले निरामय भान ।।2।।
 स्रष्ट्रा आयुर्वेद के ,
     अद्भुत भेषज ज्ञान ।
           जड़ी दवाई बूटियाँ ,
                रचे प्रभु विज्ञान ।।3।।
धनतेरस पर कीजिए ,
    पूजा की शुरुआत ।
         लक्ष्मी माँ हर्षित रहे ,
            धन्वंतरि ऋषि तात ।।4।।
दीवाली के पर्व में ,
     धन्वंतरि श्रीमंत ।
         सबको दें आरोग्यता ,
              करें रोग का अंत ।।5।।

 — माधुरी डड़सेना “मुदिता ‘
          भखारा न.प.
           ( छ. ग. )

(Visited 10 times, 1 visits today)