धरती वंदन – बाबूलाल शर्मा बौहरा द्वारा रचित ( dharati vandan )

.  धरती वंदन – बाबूलाल शर्मा बौहरा द्वारा रचित ( dharati vandan )

( दोहा छंद)

.                   …..  १ ….
धारण करती है सदा, जल थल का संसार।
जननी  जैसे  पालती, *धरती* जीवन  सार।।
.                         २ 
*भूमि*  उर्वरा  देश  की, उपजे  वीर  सपूत।
भारत माँ सम्मान हित, हो कुर्बान  अकूत।।
.                         ३ 
*पृथ्वी,* पर्यावरण  की , रक्षा  कर  इन्सान।
बिगड़ेगा यदि संतुलन, जीवन खतरे जान।।
.                         ४ 
*धरा*  हमारी मातु सम, हम है  इसके लाल।
रीत निभे बलिदान की,चली पुरातन काल।।
.                         ५ 
*भू*  पर भारत देश का, गौरव गुरू समान।
स्वर्ण पखेरू शान है, आन बान अरमान।।
.                         ६ 
*रसा*  रसातल से उठा,भू का कर उपकार।
धारे  रूप  वराह  का, ईश्वर   ले  अवतार।।
.                         ७ 
चूनर हरित *वसुंधरा,* फसल खेत खलिहान।
मेड़ मेड़ पर  पेड़ हो, हँसता मिले  किसान।।
.                         ८ 
*वसुधा*  के शृंगार वन, जीवन प्राकृत वन्य।
पर्यावरण  विकास से, मानव  जीवन धन्य।।
.                         ९ 
*अचला* चलती है सदा, घुर्णन से दिन रात।
रवि  की  करे परिक्रमा, लगे साल  संज्ञात।।
.                       १० 
*क्षिति* जल पावक अरु गगन,
.                         संगत मिले समीर।
जीव जीव में पाँच गुण,
   .                      धारण, तजे शरीर।।
.                       ११ 
वारि  *इला*  पर साथ ही, प्राण वायु भरपूर।
इसीलिए  जीवन  यहाँ, सुन्दर  प्राकृत  नूर।।
.                       १२ 
मानस  मानुष  *मेदिनी*,  बचे , बचे  संसार।
संरक्षण करले  सखे, रखें कुशल  आचार।।
.                       १३ 
रखें *विकेशी* मान को, निज माता सम मान।
जगत मातु रखिए सखे, लगा प्रदूषण आन।।
.                       १४ 
*क्षमा*  क्षमा करती सदा, मानव  के अपराध।
हम भी मिल रक्षण करें,सबके मन हो साध।।
.                       १५ 
पेड़  *अवनि* की  शान है, शीतल देते  छाँव।
प्राणवायु  भरपूर  दे, लगा नगर  पथ  गाँव।।
.                       १६ 
भरते  निर्मल  बाँध सर, हरे   *अनंता*   ताप।
नीर प्रदूषण है सखे, हम सब को अभिशाप।।
.                       १७ 
वारि अन्न जीवन वसन, दिए सर्व सुख शान।
रहें  तभी   *विश्वंभरा*, रक्षण   मय  सम्मान।।
.                      १८ 
रखे  *स्थिरा*  धारण  सदा, मानव  तेरे भार।
करती निज कर्तव्य वह, करले कर्म सुधार।।
.                       १९ 
वृक्ष  *धरित्री*  पर  हरे, वर्षा जल की आस।
खूब लगाओ पेड़ फिर, भावि बने विश्वास।।
.                       २० 
*धरणी* पर जल है भरा,हिम सागर नद बंध।
खेती, पीने  को नहीं, सोच मनुज मतिअंध।।
.                       २१ 
*उर्वी*  पर  है  सिंधु  सर, नदिया और पठार।
फसलें कानन पथ भवन,झेले गुरुतम भार।।
.                       २२ 
देश  राज्य  सीमा बना, ले  हथियार  नवीन।
क्यों लड़ते ,रहने यहीं, जेवर जोरु *जमीन*।।
.                       २३ 
धीरज से खोदें खनिज, करले भल पहचान।
रहे  *रत्नगर्भा*  अमर, अविरल  रहें  प्रमान।।
.                       २४ 
*महि* से रवि शशि दूर है, करते नेह प्रकाश।
चाहे  तन  से  दूर  हों, रखो  प्रेम  विश्वास।।
.                       २५ 
गंग *अदिति* पर ही बहे, भागीरथी प्रयास।
निर्मल  रखनी है सदा, जैसे  हरि आवास।।
.                       २६ 
*आद्या*  सम हैं  नारियाँ, धारक और महान।
सृष्टि चक्र इनसे चले, मत कर नर अपमान।।
.                       २७ 
*जगती*  पर  जीवन रहे, ईश्वर से  अरदास।
जीवन भी साकार तब, होय प्रदूषण नाश।।
.                       २८ 
सहती  *धात्री*  देखिए, मानव  के  अतिचार।
मर्त्य जन्म शुभ कर्महित,करले खूब विचार।।
  .                     २९ 
इसी  *निश्चला* पर रहें, प्राकृत  जीव अनंत।
सुर नर मुनि  गंधर्व की, चाह बहार  बसंत।।
.                       ३० 
खोद  रहे  *रत्नावती*, बजरी  पत्थर  खेत।
मोती माणिक रत्न भी, खोजे स्वर्ण समेत।।
.                       ३१ 
वासुदेव  श्रीकृष्ण  से, सभी ईश अवतार।
माने माँ  सम *वसुमती*, वीर मिटाए भार।।
.                       ३२ 
*विपुला* बड़ी विचित्र है,भरे खनिज भरपूर।
खोद  जरूरत  मानवी, मत कर  माँ  बेनूर।।
.                      ३३ 
शस्य श्यामला चाहते, *श्यामा* को घनश्याम।
मीरा, राधा  श्याम को,  सीता  चाहति  राम।।
.                       ३४ 
सहे  सदा  माता  *सहा*, पूत , दुष्ट  के  दंश।
‘लाल’ मातु के जो कहे, मेटे खल कुल वंश।।
.                      ३५ 
धारे  *सागरमेखला,*  सागर  सरिता  सेतु।
पर्वत जंगल  जीव ये, माता, सुत जन हेतु।।
.                       ३६ 
गौ, गौरैया, गिद्ध  गुण, भूल  रहा   इंसान।
उपयोगी जनजीव ये, *गो* का हर अरमान।।
.                      ३७ 
धर्म,जातियाँ गोत्र से, मत कर जनअलगाव।
सूरज  *गोत्रा*  चंद्र  के,  रहे  एक  सम भाव।।
.                       ३८ 
क्यों *ज्या* को अपमानता, स्वारथ में इन्सान।
माता का  सम्मान कर, जग है  कर्म प्रधान।।
.                       ३९ 
*इरा* कभी  देनी नहीं, जन्मत  सीख सपूत।
रजपूतानी  रीति थी, गर्वित  जन रजपूत।।
.                       ४० 
जन्म *इड़ा*  पर भाग्य से,करले खूब सुकर्म।
स्वर्ग नर्क  व्यापे नहीं, समझ  धर्म का  मर्म।।
.                      ४१ 
लड़े *भोम* हित भोमिया,शीश विहीन कबंध।
शर्मा  बाबू  लाल  के, कुल  में  पुरा  प्रबंध।।
.                 ….….
(*तारांकित शब्द धरती के पर्यायवाची हैं)
✍©
बाबू लाल शर्मा, बौहरा
सिकंदरा, दौसा,राजस्थान
(Visited 8 times, 1 visits today)