KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

दोहा सप्तक

0 184

दोहा सप्तक

                         *
जो तू तोड़े फूल को , किया बड़ा क्या काम ।
फूलों को  मुरदा  करे , खुश हो  कैसे  राम ।।
                         *
जीवन  के सौन्दर्य से , जब  होगी पहचान ।
पायेगा  तब ही  मजा , सचमुच  में इंसान ।।
        .                 *
समय लगे न चित्र रचे , झटपट रचना होय ।
एक चरित्र  निर्माण में , पूरा जीवन  खोय ।।
                          *
मत कर संदेह मित्र पर , हानि  पड़े या लाभ ।
तन मन धन को वार दे , मित्र मिले बड़़ भाग ।।
                          *
दुविधा के भ्रम जाल में , सत्य दरस ना होय ।
जीव को अधोगति मिले , पाय नरक को रोय ।।
                           *
छोड़ विकारी भावना , मन में जड़ता आय ।
सत्य संध श्री राम के , शरणागत  हो जाय ।।
                           *
कथा कहत जीवन गया , मन को अवगुण भाय ।
समय व्यर्थ  ही खो दिया , दूसर  को समुझाय ।।
                    ~  रामनाथ साहू  ” ननकी “
                          मुरलीडीह ( छ. ग.)
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.