navdurga

नवदुर्गा पर दोहा – बाबूलाल शर्मा

नवदुर्गा पर दोहा

~ १ ~
मात शैल पुत्री प्रथम, कर पूजन नवरात।
घट स्थापन पूजा करें, मिले सर्व सौगात।।
. ~ २ ~
ब्रह्मचारिणी रूप माँ, दिवस दूसरे जान।
शक्ति मिलेगी भक्ति से, माता का वरदान।।
. ~ ३ ~
मात चन्द्रघंटा भजें, दिन तृतीय का रूप।
मानस रहे चकोर सा, करिए भक्ति अनूप।।
. ~ ४ ~
कुष्मांडा चौथे दिवस, पूजन रूप विशेष।
ध्यानमग्न उपवास कर, शुभ्र धारिए वेष।।
. ~ ५ ~
पूज्य स्कंदमाता सखे, दिवस पाँचवे मान।
मातृशक्ति आराधना, पूजें सहित विधान।।
. ~ ६ ~
छठवें माँ कात्यायनी, पूजन मय उपवास।
कृपा करें माँ भक्त पर, करती पूरी आस।।
. ~ ७ ~
कालरात्रि दिन सातवें, पूजें भक्त सुजान।
मिटे कष्ट मन गात के, राग द्वेष अज्ञान।।
. ~ ८ ~
कृपा महागौरी करे, दिवस आठवें मान्य।
धर्म शील संतोष दे, भरे गेह धन धान्य।।
. ~ ९ ~
‘विज्ञ’ सिद्धिदात्री नवें, मान रूप नौ ज्ञात।
शर्मा बाबू लाल पर, रखे कृपा जग मात।।


✍©
बाबू लाल शर्मा, बौहरा, विज्ञ
निवासी – सिकन्दरा, दौसा
राजस्थान ३०३३२६

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page