कविता 08 एक सवाल है- मनीभाई नवरत्न

कविता 08
एक सवाल है
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
ये जीवन शतरंज की चाल है।
जनाब! आपके क्या ख्याल है?
जान परखकर आगे बढ़ना ।
गिर-गिर के, जरा  संभलना।
भूल-भुलैया ख्वाबों का ठौर
ख्वाह चुरा ना ले कोई  और।
यहां पग-पग में बिछी जाल है।
हर कदम बना एक सवाल है 
अजनबियों से रिश्ते बनते हैं ।
दो कदम चलके बिखरते हैं ।
ये रिश्ते महज होते हैं भ्रांति।
लूट लेते हैंमन की शांति।
रिश्तों की ज़िन्दगी कमाल है।
ये रिश्ते नाते , एक सवाल है ।
पल पल में  मिलता है मौका ।
ये मौका ,हो सकता है धोखा ।
जब भी इन्हें पाना, तू बेखबर ।
हो जाना चौकन्ना , हर डगर ।
मौका पाने को ही,मचे बवाल है।
हर मौके में तो, एक सवाल है ।।
मनीभाई”नवरत्न”
§§§§§§§§

(Visited 1 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़

प्रातिक्रिया दे