KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

गजानन आराधना (गणेश चतुर्थी विशेष)

गणेश चतुर्थी के पावन पर्व पर समर्पित गजानन आराधना

0 1,621

(गणेश चतुर्थी उत्सव पर
विशेष प्रस्तुति )

*गजानन आराधना*
*^*^*^*^*^*^*^*^*

गजानन आओ नी इक बार …।
गजानन आओ नी इक बार ….।
निसदिन तेरी बाट में जोहूं ,
बैठूं पलक बुहार …।
गजानन आओ नी इक बार….।

धूप दीप और फल फूलों से ,
तुझ को भोग लगाऊँ ।
लगा तेरे अगर और चंदन ,
मैं श्रृंगार सजाऊँ ।
तुमसे करूं एक ही बिनती ,
दर्शन अब दे जाओ ।
गजानन आओ नी इक बार …।
गजानन आओ नी इक बार ….।
निसदिन तेरी बाट में जोहूं ,
बैठूं पलक बुहार …।
गजानन आओ नी इक बार….।

रिद्धि-सिद्धि के तुम हो दाता ,
ज्ञान-बुद्धि के सागर ।
जीवन मेरा कोरा कागज ,
रीती पड़ी है गागर ।
बूंद-बूंद से प्यास बुझे न ,
बन के मेघ बरसाओ ।
गजानन आओ नी इक बार …।
गजानन आओ नी इक बार ….।
निसदिन तेरी बाट में जोहूं ,
बैठूं पलक बुहार …।
गजानन आओ नी इक बार….।

यह दुनिया मद में है आंधी ,
मैं मंदबुद्धि कहलाऊँ ।
ज्ञान-सरिता मुझ तक मोडों ,
मैं ‘अजस्र’ बन जाऊँ ।
रख के हाथ शीश पर मेरे ,
कृपा-आशीष बरसाओ ।
गजानन आओ नी इक बार …।
गजानन आओ नी इक बार ….।
निसदिन तेरी बाट में जोहूं ,
बैठूं पलक बुहार …।
गजानन आओ नी इक बार….।

शुभ और लाभ , रिद्धि और सिद्धि ,
विद्या-लक्ष्मी साथ ।
घर आंगन में मेरे पधारो ,
सबको लेकर आप ।
मूषक-सवार मेरे मन-मंदिर ,
आकर के बस जाओ ।
गजानन आओ नी इक बार …।
गजानन आओ नी इक बार ….।
निसदिन तेरी बाट में जोहूं ,
बैठूं पलक बुहार …।
गजानन आओ नी इक बार….।

✍✍ *डी कुमार–अजस्र (दुर्गेश मेघवाल)*
पता:- पुराना माटुदा रोड इंद्रा कॉलोनी बून्दी (राजस्थान)

Leave a comment