KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

गणतंत्र दिवस विशेष हाइकु

0 151

गणतंत्र दिवस विशेष हाइकु

         हा.. गणतंत्र
      रोता रहा है गण
         हँसता तंत्र ।
          


         सैनिक धन्य
      देश खातिर जीने
         करते प्रण ।
          


           राम रहीम
      भाइयों को लड़ाते
         बने जालिम ।
       


          मनुष्य एक
      रक्त सबका लाल
       क्यों फिर भेद ?
      


          मनु तू जान
       सबके लिए होता
         सम विधान ।


         देश की रक्षा
      माँ भारती सम्मान
        यही हो आन ।


          मातृ सेवार्थ
     प्राणों का न्यौछावर
          गर्व तू मान ।

✍प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
              ( छत्तीसगढ़ )

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.