KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook

@ Twitter @ Youtube

गगनांगना छंद [सम मात्रिक] कैसे लिखें

0 15

गगनांगना छंद [सम मात्रिक] विधान – 25 मात्रा, 16,9 पर यति, चरणान्त में 212 या गालगा l कुल चार चरण, क्रमागत दो-दो चरण तुकांत l

hindi sahityik class || हिंदी साहित्यिक कक्षा
hindi sahityik class || हिंदी साहित्यिक कक्षा

उदाहरण :

कब आओगी फिर, आँगन की, तुलसी बूझती,
किस-किस को कैसे समझाऊँ, युक्ति न सूझती।
अम्बर की बाहों में बदरी, प्रिय तुम क्यों नहीं,
भारी है जीवन की गठरी, प्रिय तुम क्यों नहीं।

– ओम नीरव

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.