KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

गुड़िया पर बाल कविता

0 61

गुड़िया पर बाल कविता

गुड़िया पर बाल कविता - कविता बहार - हिंदी कविता संग्रह



गुड़िया मेरी रानी है,
बन्नो बड़ी सयानी है।
गुन-गुन गाना गाती है,
ता-थई नाच दिखाती है।
हँसती रहती है दिन रात,
करती है वह मीठी बात।
ठुमक ठुमक कर आती है,
कंधे पर चढ़ जाती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.