KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

गुरु बिन जीवन व्यर्थ है- मदन सिंह शेखावत ढोढसर

0 91

गुरु बिन जीवन व्यर्थ है ,गुरु  है देव समान।

नित्य करे गुरु वन्दना,गुरु का कर नित मान।

गुरु का कर नित मान,ज्ञान की राह दिखाये।

देकर  मंत्र  कमाल , जगत   से पार लगाये।

कहै मदन कर जोर,कर ले ढूंढना अब शुरु।

सच्चा गुरु पहचान,व्यर्थ है जीवन बिन गुरु।।

Leave A Reply

Your email address will not be published.