गुरु ईश्वर समतुल्य हैं

गुरु बिन ज्ञान मिले नहीं ,
              रखना गुरुवर मान ।
गुरु की कृपा अनंत है ,
              होता ऐसा भान ।।
गुरु ईश्वर समतुल्य हैं ,
            सदा करें सत्कार ।
दिव्य ज्ञान भंडार दे ,
            करते गुरु उपकार ।।
हिय से नित ही तम मिटे ,
           करलें अथक प्रयास ।
सदा स्नेह गुरुवर मिले ,
           बने रहें हम दास ।।
गुरु का सुमिरन चल करें ,
           दिव्य दिवस शुभ आज ।
बिगड़े काम सदा बने ,
          शिष्य भाव तन साज ।।
ध्येय मिले सतज्ञान से ,
          गुरु महिमा जग सार ।
कहे रमा ये सर्वदा ,
          गुरु का कर आभार ।।
            *~ मनोरमा चन्द्रा “रमा”*
                 *रायपुर छ.ग.*
(Visited 15 times, 1 visits today)