गुरु महिमा – मदन सिंह शेखावत ढोढसर

कुण्डलिया





गुरु बिन जीवन व्यर्थ है ,गुरु है देव समान।
नित्य करे गुरु वन्दना,गुरु का कर नित मान।
गुरु का कर नित मान,ज्ञान की राह दिखाये।
देकर मंत्र कमाल , जगत से पार लगाये।
कहै मदन कर जोर,कर ले ढूंढना अब शुरु।
सच्चा गुरु पहचान,व्यर्थ है जीवन बिन गुरु।।

दोहा

गुरु बिन ज्ञान मिले नही, कैसे हो उद्धार।
मार्ग कठिन आध्यात्म का,होय सहज सब पार।।

गुरु की कर नित बन्दगी,मार्ग सुक्ष्म दरशाय।
पकड़ डोर भव पार हो,महिमा गुरु बतलाय।।

दूर भगाये तिमिर को,देकर हमको ज्ञान।
मेट गुरु अंधकार को,मनुज देय पहचान।।

मानव तन को पाय कर,किया न गुरु से प्यार
डूबे वो मझधार में, भव सागर कब पार।।



मदन सिंह शेखावत ढोढसर

(Visited 7 times, 1 visits today)

मदनसिंह शेखावत

मदन सिंह शेखावत ढोढसर पिता का नाम :- स्व श्री इन्द्र सिंह शेखावत माता का नाम:- श्रीमती सरताज कंवर पत्नी का नाम:- श्रीमती किरण कंवर लेखन:- कविता छन्द गीत दोहा चौपाई कुण्डलिया व अन्य । शिक्षा :-हायर सेकंडरी पास पुरस्कार :- प्रजातंत्र का स्तंभ द्वारा दो बार प्रथम व एक बार द्वितीय सम्मान । साझा संकलन तीन व पत्र पत्रिका मे प्रकाशित रचनाये । पता :- मदन सिंह शेखावत मुकाम पोस्ट :- ढोढसर वाया गोविन्दगढ जिला जयपुर (राजस्थान ) मोबाईल नम्बर 9602142879