गुरु पच्चीसी

. गुरु पच्चीसी
. 💫 *गुरु पूनम*💫

1..💫💫
शिक्षक का आदर करो, गुरुजन पूजित होय।
प्रथमा गुरु माता कहें, पितु भी गुरुपद जोय।।
2..💫💫
जो हमको शिक्षा दिये, शिक्षक गुरु सम मान।
उनको है सादर नमन, तज माया आभिमान।
3..💫💫
शिक्षा सत अभ्यास है, जीवन भर कर हेत।
जिनसे सीखें गुरु वही, परिजन प्रिये समेत।।
4..💫💫
गुरु ब्रह्मादि महेश से, गुरु विष्णो सम पूज।
साँचे गुरु बिरले मिले, जैसे चंदा दूज ।।
5..💫💫
गुरु जीवन संसार है, जीवन का सत सार।
मातु पिता गुरु तीसरे, इन पर गुरुतम भार।।
6..💫💫
राधाकृष्णन जयन्ती, शिक्षक दिव उपलक्ष्य।
धन्य भाग ऐसे पुरुष, कभी धरा पर दृश्य।।
7..💫💫
उप पद पहले राष्ट्रपति, बने हमारे देश।
महामहिम दूजे हुए , शिक्षा के परिवेश।।
8..💫💫
शिक्षक निर्माता कहे, देश व शिष्य सुजान।
इनके ही सम्मान सें ,मिले हमें अरमान।।
9..💫💫
रीढ समाजी हैं यही, शिक्षक,और किसान।
जय जवान के साथ ही, बोलो जय विज्ञान।।
10..💫💫
निर्माता गुरु देश के, राजा रंक जहान।
चेले भी शक्कर हुए, गुरु भी हुए महान।।
11..💫💫
रामलखन के गुरु बने, मुनिवशिष्ठ महाभाग।
रघुकुल के कुलगुरु रहे,पूजित अबतक राग।।
12..💫💫
विश्वामित्र महान मुनि, वन ले गये लिवाय।
रामलखन मख रक्षते, जनकपुरी ले जाय।।
13..💫💫
ज्ञान पुंज वाल्मीकि थे, विद्या के आगार।
सीत शरण,लवकुश पठन,रामायण रचिहार।।
14..💫💫
कृष्ण सुदामा अरु सखा,विद्या पढ़ते संग।
गुरु संदीपन आश्रमे, गुरु जग नाथ प्रसंग।।
15..💫💫
कौरव पाण्डव थे हुए, जग में नामी वीर।
द्रोणाचारी गुरु बड़े ,अनुपम विद्या धीर।।
16..💫💫
घटन हुई इकलव्य की, गुरु जनि द्रोणाचार्य।
दिए अंगुठा दक्षिणा, नाम अमिट कुल आर्य।।
17..💫💫
मध्यकाल में गुरु प्रथा, साँच निभाये पंत।
नानक,कबिरा धीर जन, तुलसी दादू संत।।
18..💫💫
राम दास गुरु की व्यथा, हरे शिवाजी वीर।
दूध शेरनी का दिए, खूब दिखाये धीर।।
19..💫💫
मिली कृपा शिवराज को, जीजाबाई मात।
क्षत्र पते राजा बने, देश धर्म हित ज्ञात।।
20..💫💫
मीरा अर रैदास भी, सतजन गुरु पद पाय।
पीपा नीमा रामदे , लोक देव कहलाय।।
21..💫💫
राम कृष्ण तो हंस थे,सत गुरु मेटे द्वंद।
बालक नाथ नरेन्द्र को, किया विवेकानंद।।
22..💫💫
दयानंद स्वामी रहे, गुरु जन संत महान।
आर्य समाजी पंथ है,अब भी चले जहान।।
23..💫💫
राजनीति में भी हुये , गुरु पद पर आसीन।
चाणक्,तिलक,व गोखले,गाँधी नाम प्रवीन।।
24..💫💫
सबमिल गुरु को मान दें,अंतर्मन सनमान।
बिन गुरु के नुगरा बनें, सतगुरु ही भगवान।।
25..💫💫
प्रभु से पहले गुरु नमः, हरि की रीति प्रतीत।
शर्मा बाबू लाल कह, गुरु को नमन पुनीत।।

🌹💫🌹💫🌹💫
✍©
बाबू लाल शर्मा “बौहरा” विज्ञ
सिकंदरा, दौसा,(राज.)
🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

(Visited 3 times, 1 visits today)