KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

हाइकु त्रयी

0 79

हाइकु त्रयी

[१]
कोहरा घना
जंगल है दुबका
दूर क्षितिज!

[२]
कोहरा ढांपे
न दिखे कुछ पार
ओझल ताल

[३]
हाथ रगड़
कुछ गर्माहट हो
कांपता हाड़

निमाई प्रधान’क्षितिज’*

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.