जय जय हनुमान – बाबूराम सिंह

कविता

जय जय हनुमान
—————————
जय भक्त शिरोमणि शरणागत जय हो कृपानिधान।
जयबजरंगी रामदूत जय पवनपुत्र जय जय हनुमान।।

जय आनंद कंदन केशरी नंदन जग वंदन शुभकारी।
जय मद खलगंजन असुरनिकंदन भवभंजन भयहारी।
जय जयजनपालक द्रुतगतिचालक सुचिमय फलहारी।
जय श्रीहरि धावन प्रभु गुणगावन पावन प्रेम पुजारी।

जय अंजनी लाला शुभ योग निराला जय महिमान।
जय बजरंगी रामदूत जय पवनपुत्र जय-जय हनुमान।

जय संकट मोचन विभुलोचन जयमनमोहक मधुरारी।
जय कौतुककारक शोकनिवारक जय उत्तमब्रह्मचारी।
जय हनुमत बाला सूक्ष्म बिशाला सुर संतन हितकारी।
जय सुरसा उध्दारक शुचि तारक वानरजूथ बलकारी।

लंका जारक अक्षय मारक जय हे अतुलित बलवान।
जय बजरंगी रामदूत जय पवनपुत्र जय-जय हनुमान।

जय पथ प्रदर्शक बल बर्द्धक जय जय करुणा सागर।
जय भाग्यविधाता श्रेष्ठ ज्ञान ज्ञाता दाता में अतिनागर।
जय विकटानन मर्दि दशानन पटक दियो जस गागर।
जय भक्ति प्रपति शरणागति दाता हरि सेवा में आगर।

महिसागर कानन विजयानन देहु चरणमें भक्तिदान।
जय बजरंगी रामदूत जय पवनपुत्र जय जय हनुमान।

—————————————————————-
बाबूराम सिंह कवि
बड़का खुटहाँ , विजयीपुर
गोपालगंज(बिहार)841508
मो०नं० – 9572105032
———————————————–

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page