Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

हास्य कविता-शादी की सालगिरह

0 314

हास्य कविता-शादी की सालगिरह

आते ही शादी की सालगिरह
पत्नी जी मुस्काई
कहने लगी
मेरे हमसफर आपको बधाई

पति महोदय बधाई पाकर
सर खुजाने लगे
झंडू बाम सर में लगाने लगे

पत्नी बोली
ख़ुशी के दिन आपको भला
क्या हो जाता है
बधाई देने पर
सर दर्द उमड़ आता है

पति बोले-
अरे भाग्यवान
शादी के लिए
मुश्किल से धन जुटाया था
बैंड बाजे बाराती में
धन लुटाया था

CLICK & SUPPORT

कर्ज का बोझ अभी तक
उतार नहीं पाया हूँ
तेरे लिए सबकुछ ख़रीदा
मेरे लिए एक पतलून तक
नहीं ले पाया हूँ

कभी जन्म दिन
कभी करवाचौध
कभी त्यौहार आ जाते हैं
तू क्या जाने
सारे पैसे खर्च हो जाते हैं

जीवन संगनी जी
शादी की साल गिरह की
तारीख बता रही हो
प्यार कम
ख्वाइश ज्यादा बता रही हो

तुम ही बताओ
महंगाई के जमाने में
सालगिरह को हम कैसे बनाएंगे
तुम्हे चाहिए नई साड़ी
हम तो झंडू बाम ही लगाएंगे

राजकिशोर धिरही
तिलई,जाँजगीर छत्तीसगढ़

Leave A Reply

Your email address will not be published.