Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

हाथी पर कविता

0 212

हाथी पर कविता:- हाथी आता झूम के

इन्हें भी पढ़ें

CLICK & SUPPORT

हाथी पर कविता
हाथी पर कविता



हाथी आता झूम के,
धरती मिट्टी चूम के,
कान हिलाता पंखे जैसा,
देखो मोटा ऊँचा कैसा ?
सूँड हिलाता आता है,
गन्ना पत्ती खाता है।
हाथी के दो लंबे दाँत,
सूँड़ बनी है इसके साथ।
इससे ही यह लेता रोटी,
आँखें इसकी छोटी-छोटी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.