हिंदी हमारी आन है -आचार्य गोपाल जी

हिंदी हमारी आन है

हिंदी हमारी आन है ,
ये भारत की शान है ।
हिंदी से हिंदुस्तान है ,
ये भाषा बड़ी महान है ,
यही बढ़ाती मान है।
हिंदी हमारी आन है ,
ये भारत की शान है ।
संस्कृत में है संस्कृति हमारी,
हिंदी संस्कृत की संतान है ।
यही हमारी है एक धरोहर,
ये करती सब का सम्मान है ।
अरबी फारसी अंग्रेजी सहित,
यह सबको देती मान है ।
हिंदी हमारी आन है ,
ये भारत की शान है ।
प्रेम सौहार्द की भाषा हिंदी,
प्रेम की मजबूत धागे समान है ।
हिंदू की गौरव गाथा है,
सनातन की पहचान है ।
सूर तुलसी कबीर रहीम ,
कहीं  जायसी तो रसखान है ।
हिंदी हमारी आन है ,
ये भारत की शान है ।
हिंदी भारत की बिंदी है,
सुलभ सुगम रस खान है ।
‌गर्व हमें है निज भाषा पर,
यही हमारा स्वाभिमान है ।
जीवन की है यही परिभाषा,
यह कालजई महान है ।
हिंदी हमारी आन है ,
ये भारत की शान है ।
बिहारी,भूषण,कवि चंद है इसमें,
दिनकर,निराला,पंत,भारतेंदु महान है ।
बड़ी निराली देवनागरी लिपि,
विश्व में इसकी अलग पहचान है ।
हर भारतवासी के दिल में ,
हिंदी  के लिए सम्मान है ।
हिंदी हमारी आन है ,
ये भारत की शान है ।
पर आज यही बनी है दासी ,
हम सब से ही यह परेशान है ।
अंग्रेजी है राज कर रही ,
यह बनी हुई गुमनाम है ।
दिवस पर करते गुणगान सब ,
दिल से करते अंग्रेजी का बखान है ।
हिंदी हमारी आन है ,
ये भारत की शान है ।
नेताओं की है बात निराली,
अंग्रेजी की करते रखवाली ।
हिंदी का करते अपमान है,
हर वर्ष बना के नए नियम वो,
जिसमे वोट कमीशन नाम है,
यही चलन आज आम है ।
हिंदी हमारी आन है ,
ये भारत की शान है ।
आचार्य गोपाल जी
           उर्फ
 आजाद अकेला बरबीघा वाले
(Visited 14 times, 1 visits today)