कविता’ साहित्य की वह विधा है जिसमें किसी मनोभाव को कलात्मक रूप से किसी भाषा के द्वारा अभिव्यक्त किया जाता है। काव्य वह वाक्य रचना है जिससे चित्त किसी रस या मनोवेग से पूर्ण हो। अर्थात् वह जिसमें चुने हुए शब्दों के द्वारा कल्पना और मनोवेगों का प्रभाव डाला जाता है.

Kavita ‘is the genre of literature in which a sentiment is artistically expressed by a language. Poetry is the syntax that makes the mind complete with emotions. That is, in which imagination and emotions are effected by the chosen words.

Kavita Bahar || कविता बहार
Kavita Bahar || कविता बहार

मन पर कविता

मन पर कविता Kavita Bahar || कविता बहार सोचा कुछहो जाता कुछ हैमन के ही सब सोचमन को बांध सका न कोईमन खोजे सब कोय।।⭕हल्के मन से काम करो तोसफल…

0 Comments
HINDI KAVITA || हिंदी कविता
HINDI KAVITA || हिंदी कविता

नज़र अंदाज़ करते हैं गरीबी को

नज़र अंदाज़ करते हैं गरीबी को HINDI KAVITA || हिंदी कविता नज़र अंदाज़ करते हैं गरीबी को सभी अब तो।भुलाकर के दया ममता सधा स्वारथ रहे अब तो। अहं में…

0 Comments
kavita bahar
kavita bahar

चांद पर कविता

चांद पर कविता kavita bahar सफेद चांद धवल चन्द्र रात्रि मेंआए जब श्वेत मेघों पे ,देखते ही बनता है नजाराचांदी जैसा मेघ चमकतालगता है बड़ा ही प्यारा ।खो जाता हूं…

0 Comments
HINDI KAVITA || हिंदी कविता
HINDI KAVITA || हिंदी कविता

निर्लज्ज कामदेव

निर्लज्ज कामदेव   HINDI KAVITA || हिंदी कविता ओ निर्लज्ज कामदेवतू न अवसर देखता है,न परिस्थितियाँन जाति देखता है, न आयुन सामाजिक स्तरयहाँ तक कि, कभी कभीतो रिश्ता भी नहीं देखतादेशों…

0 Comments
HINDI KAVITA || हिंदी कविता
HINDI KAVITA || हिंदी कविता

तृष्णा पर कविता

तृष्णा पर कविता HINDI KAVITA || हिंदी कविता तृष्णा कुछ पाने कीप्रबल ईच्छा हैशब्द बहुत छोटा  हैपर विस्तार  गगन सा है।अनन्त नहीं मिलता छोर जिसकाशरीर निर्वाह की होतीआवश्यकतापूरी होती है।…

0 Comments
HINDI KAVITA || हिंदी कविता
HINDI KAVITA || हिंदी कविता

मन की लालसा किसे कहे

मन की लालसा किसे कहे HINDI KAVITA || हिंदी कविता सच कहुं तो कोई लालसा रखी नहींमन की ललक किसी से कही नहीं क्यों कि     जीवन है मुट्ठी में…

0 Comments
kavita bahar
kavita bahar

कुछ चिन्ह छोड़ दें -गीता द्विवेदी

कुछ चिन्ह छोड़ दें -गीता द्विवेदी kavita bahar मृत्यु आती है ,सदियों से अकेले ही ,बार - बार , हजार बारलाखों , करोड़ों , अरबों बार ।पर अकेले जाती नहीं…

0 Comments
8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 March International Women's Day
8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 March International Women's Day

मैं ना केवल एक स्त्री हूँ

मैं ना केवल एक स्त्री हूँ मैं ना केवल एक स्त्री हूँ 8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 March International Women's Day ऐसे न देखो मुझे ,कि मैं केवल एक…

0 Comments
HINDI KAVITA || हिंदी कविता
HINDI KAVITA || हिंदी कविता

ये उन्मुक्त विचार -पुष्पा शर्मा”कुसुम”

ये उन्मुक्त विचार -पुष्पा शर्मा"कुसुम" HINDI KAVITA || हिंदी कविता नील गगन  के विस्तार सेपंछी के फड़फड़ाते पंख से,उड़ रहे, पवन के संग ये उन्मुक्त विचार । पूर्ण चन्द्र के…

0 Comments