KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

हिंदी से ही भारत की शुभ पहचान है

हिंदी दिवस पर आधारित ये कविता

0 225

हिंदी से ही भारत की शुभ पहचान है

★★★★★★★★
जिसे बोल मान बढ़े,
हिंदी से ही शान बढ़े ।
हिंदी से ही भारत की,
शुभ पहचान है।
★★★★★★★★
प्रजातंत्र की है धूरी ,
जिसे बोले हिंद पूरी।
अनेकता में भी एक ,
देश ये समान है ।
★★★★★★★★★
हिंदी प्रीत की है डोरी,
जैसे लगे माँ की लोरी।
हिंदी से ही बने सब,
विधि का विधान है ।
★★★★★★★★★
जानता है पूरा देश ,
हिंदी से ही परिवेश ।
पावन बना है सभी ,
भारत महान है।
★★★★★★★★
रचनाकार डिजेन्द्र कुर्रे “कोहिनूर”
पीपरभवना,बलौदाबाजार (छ.ग.)

Leave a comment