Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

हम मजदूर कहलाते हैं

0 128

हम मजदूर कहलाते हैं

1 मई अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस 1 May International Labor Day

CLICK & SUPPORT

झुग्गी,झोपड़ियों में रहते हैं
ऊंची इमारतें बनाते हैं
हम मजदूर कहलाते हैं!
पत्थरों को तोड़ते
खून पसीना बहाते हैं
भूखे पेट कभी सूखी रोटी
फिरभी मुस्कुराते हैं!
जिस रोज पगार पाते हैं
त्योहार हम मनाते हैं
कल की कोई चिंता नहीं
जीवन सरल बनाते हैं!
एसी कार में आते हैं
चार बातें सुना जाते हैं
अंगोछे से पसीना पोंछ
हम काम में जुट जाते हैं!
हम मजदूर कहलाते हैं!
हम मजदूर कहलाते हैं!
–डॉ. पुष्पा सिंह ‘प्रेरणा’

                    

कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

Leave A Reply

Your email address will not be published.