Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

हमसफर पर कविता

0 411

हमसफर पर कविता

सात फेरों से बंधे रिश्ते ही
*हम सफर*नहीं होते
कई बार *हम* होते हुए भी
*सफर* तय नहीं होते

CLICK & SUPPORT

कई बार दूर रहकर भी
दिल से दिल की डोर जुड़ जाती है
हर पल अपने पन का
अहसास दे जाती है
कोई रूह के करीब
रहकर भी दूर होता है
कोई दूर रहकर भी
धड़कनों में धड़कता है
एक संरक्षण एक अहसास
होता है हमसफर
दूर हो चाहे पास
सांसों में महकता है हमसफर

कथित हमसफर के होते हुए भी
कई सफर अकेले ही तय करने होते हैं
संस्कारों और जिम्मेदारियों के
किले फतेह करने होते है

पर हाँ, एक सुखद एहसास होता है
हमसफर का साथ
एक हल्का सा मनुहार
और एक प्यारी सी मुस्कान
खुद में बना देती है खास
समझौते की सवारी करके
हम समझा लेते हैं खुद को
की हम ही हैं वो विशेष
जिसका खुद में नहीं है कुछ शेष
—————————————–
वर्षा जैन “प्रखर”
दुर्ग (छत्तीसगढ़)

Leave A Reply

Your email address will not be published.