KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

होली-अशोक दीप

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

होली-अशोक दीप

होली छटा निहारिए, बरस रहा मधु रंग ।
मंदिर-मस्जिद प्रेम से, खेल रहे मिल संग ।।
खेल रहे मिल संग, धर्म की भींत ढही है ।
अंतस्तल में आज, प्रीत की गंग बही है ।।
कहे दीप मतिमंद, रहे यह शुभ रंगोली ।
लाती जन मन पास, अरे मनभावन होली ।।

©अशोक दीप

Leave A Reply

Your email address will not be published.