KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

हरिहरण छंद

हरिहरण छंद- शिल्प – चार चरण , प्रतिचरण ३२ वर्ण , ८,८,८,८, वर्ण पर यति, प्रत्येक यति के अंत में लघु-लघु ||

0 105

हरिहरण छंद

hindi vividh chhand || हिन्दी विविध छंद
hindi vividh chhand || हिन्दी विविध छंद


चित स्याम धार कर,
     सोलह सिंगार कर,
          जमुना को पार कर,
                  बन में पधार कर |


नेह से निहार कर,
      गर बाँह डार कर,
            तन मन वार कर,
                 विमल विहार कर ||


प्रेम-प्रीति प्यार कर,
    लोक लाज हार कर,
             मृदु  मनुहार  कर,
                   सुरति विसार कर |


पुन पट झार कर,
      सुमुख संवार कर,
            चली उर गार कर,
                 ‘विश्वेश्वर’ धार कर||


                         विश्वेश्वर शास्त्री’विशेष’
                           राठ हमीरपुर उ.प्र.

Leave A Reply

Your email address will not be published.