Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

हरियाली पर कविता

0 850

हरियाली पर कविता

HINDI KAVITA || हिंदी कविता
HINDI KAVITA || हिंदी कविता

एक वृक्ष सौ पुत्र समान|
जंगल वसुधा की शान||
पर्यावरण सुरक्षित कर |
धरती का रखें सम्मान||

स्वच्छ परिवेश बनाना है|
पेड़ अधिक लगाना है ||
हरितमा बनीं धरा को |
धानीं चुनर पहनानाहै||

CLICK & SUPPORT

हरियाली चहुं ओर आयी|
ठंडी हवा बही सुखदायी||
धरा बनीं है आज दुल्हन|
कारी बदरी गगन पर छायी||

पंछी उड़े उन्नत गगन |
जैसे पायल की छनछन||
पंखो को फैलाये उड़ते|
मस्त मयूर करे नर्तन||

हरा भरा संसार है सारा|
जीवन का आधार हमारा |
जय जवान  जय किसान|
प्यारा हिन्दूस्तान हमारा ||

कुमुद श्रीवास्तव वर्मा.

Leave A Reply

Your email address will not be published.