KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

हम भारत के वासी

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

हम भारत के वासी


जन्म लिए जिस पुण्य धरा पर,
इस जग में जो न्यारा है।
हम भारत के वासी हम तो,
कण -कण इसका प्यारा है।

देश वासियों चलो देश का,
हमको मान बढ़ाना हैं।
दया-धरम सदभाव प्रेम से,
सबको गले लगाना हैं।
द्वेष-कपट को त्याग हृदय से,
सुरभित सुख के हेम रहे।
हिन्दू मुस्लिम,सिख-ईसाई,
सब में अनुपम प्रेम रहे।
मुनियों के पावन विधान ने,
जग को सदा सुधारा है।
हम भारत के वासी हम तो,
कण – कण इसका प्यारा है।

आधुनिक इस दौर में मानव,
पग – पग आगे बढ़ता हैं।
जो रखता है शुभ विचार निज,
कीर्तिमान नव गढ़ता हैं।
भले भिन्न बोली-भाषा है,
फिर भी हम सब एक रहे।
सदियों से भारत वालों के,
कर्म सभी शुभ-नेक रहे।
जिस धरती पर प्रीति-रीति की,
बहती गंगा-धारा है।
हम भारत के वासी हम तो,
कण – कण इसका प्यारा है।

जहाँ वीर सीमा पर अपनी,
पौरुष नित दिखलाते हैं।
समय पड़े तो निज प्राणों को,
न्यौछावर कर जाते हैं।
नहीं डरे हम कभी किसी से,
गर्वित चौड़ी-छाती है।
जहाँ वीर-गाथा यश गूंजे,
भारत भू की थाती है।
अरिदल को अपने वीरों ने,
सीमा पर ललकारा है।
हम भारत के वासी हम तो,
कण-कण इसका प्यारा है।
★★★★★★★★★


स्वरचित©®
डिजेन्द्र कुर्रे”कोहिनूर”
छत्तीसगढ़(भारत)