Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

जय गणपति जय जय गणनायक

0 7

जय गणपति जय जय गणनायक

जय गणपति जय जय गणनायक
विघ्न विनाशक शुभ फलदायक
शंकर सुवन भवानी नंदन
हे गणनायक ! शुभ अभिवंदन

1
जो भी सुमिरे सांझ सकारे
उसके तुमने काज सँवारे
पान पुष्प लड्डू ही भायें
ये सब प्रात: काल चढ़ाएं
मोदक भोग लगायें चन्दन
हे गणनायक ! शुभ अभिवंदन

2

अंधों को जो दृष्टि दिलाए
कोढ़ी सुन्दर काया पाए
बाँझन को संतान का सुख हो
दुखियों से ओझल सब दुख हो
ऐसे लम्बोदर का वंदन
हे गणनायक ! शुभ अभिवंदन

3

इन्हें भी पढ़ें

CLICK & SUPPORT

दारा जिनकी ऋद्धि सिद्धि
बुद्धि विवेक के जो हैं अधिपति
लाभ और शुभ पुत्र रतन है
एक दन्त भुज चार मगन है
माथे पर सिंदूर का लेपन
हे गणनायक ! शुभ अभिवंदन

4

जो कपीथ जम्बू फल खाए
मूसा वाहन जिसको भाये
कार्तिकेय हैं भाई जिनके
जो विघ्नेश जगत दुख हरते
देवों के हैं देव गजानन
हे गणनायक ! शुभ अभिवंदन

5

दूब और सिंदूर अर्पित हो
लड्डू मेवा से जो मुदित हो
विघ्नेश्वर का चरण कमल हो
शीश झुकाते सब मंगल हो
अष्ट सिद्धि नव निधि का मज्जन
हे गणनायक ! शुभ अभिवंदन

रमेश

Leave A Reply

Your email address will not be published.