जनता राजा-मनीभाई नवरत्न

(1)
लोकतंत्र क्या है?
स्वतंत्रता का पर्याय ।
जहाँ होती है जनता राजा,
और चलती है
उसके बनाये गये कानून ।
लोकतंत्र में,
मंत्री होते हैं सेवक ।
चुने जाते हैं राजा से
हर पाँच साल में।
पर सेवा तो ,
निस्वार्थ भावना है।
फिर क्यों होती है लड़ाई?
इन सेवकों ने,
बना दिया है चुनाव को
महाभारत का कुरूक्षेत्र।
🖋_मनीभाई नवरत्न_

(2)
“राजा के सेवक हजार”
जो खाते हैं मेवा,
और रखते हैं जेब में सेवा।
उसे दिखाते हैं तभी
जब लेते हैं सेल्फी।
जो दिखता है दीवार पर
टीवी में, अखबार पर।
मीडियाकर्मी फेंके
जबरदस्त आर्कषण।
राजा को होता है
जिससे साक्षात् दर्शन।
ये तो वही देखता है ,
सुनता है, समझता है।
जो मंत्री चाहता है।
राजा में नहीं है
संजय सा दूरदृष्टि
वो तो धृतराष्ट्र है ।
🖋_मनीभाई नवरत्न_

(3)
राजा बड़ा रूखा है
लगता है कई दिनों से भूखा है।
और भूखे को सदा ,
पेट का सूझता है
वो जरा मान-सम्मान को,
कम बूझता है।
काम की तलाश में
सौ कोस दूर चलता है।
अधूरे सपने साथ ले,
चार आने पर बहलता है ।
अपने घर में
राज करने के बजाय
दासता झेल रहे बाहर ।
आज रास्ते बने हैं
इनके आसरे ।
जहाँ काटते अपना सफर।
🖋_मनीभाई नवरत्न_

(Visited 1 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़

प्रातिक्रिया दे