KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

जीना अब आसान नहीं है

*ग़ज़ल* बहर- 2222 2222
काफिया- आन, रदीफ़- नहीं है

0 130

जीना अब आसान नहीं है

जग में सब का मान नहीं है,
हीरों की अब खान नहीं है।।
पहले सा अब  काम नहीं है,
इतनी भी पहचान  नहीं है।।
अपने ही रखते हैं  खंजर,
जीना अब आसान नहीं है।।
खूब मिलावट करते हैं क्यों?
अब अच्छा सामान नहीं है।।
जिसको हमने मान दिया था,
करता वह सम्मान नहीं है ।।
रोज  यहाँ  बीमारी  होती,
पहले सा जल-पान नहीं है।।
जो करता है दगा सभी से,
देखो  वह  इंसान नहीं है।।
भ्रम की इस दुनिया में हमको,
असली की पहचान नहीं है।।
झूठ बोलता हर मानव अब,
सच की रही जबान नहीं हैं ।।
झूठ मिले हर चौराहे पर
सच की कोई दुकान नहीं है।।
कलयुग में भगवान भी बिकते
राम भगत हनुमान नहीं  है।।
कलियुग में लगता  है ऐसा,
राम नहीं, रहमान नहीं  है।।
“राज” देश का किसको सौंपे,
लायक कोई  प्रधान नहीं है।।
*कवि कृष्ण कुमार सैनी “राज”,दौसा,राजस्थान मोबाइल 97855~23855*
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.